Please wait...

Read : TGT 2019 Exam Preparation

Posted on :- 2019-02-04 18:15:24
Source :- TGT 2019 Exam Preparation | General Introduction

All Details of UP TGT, UP PGT : Eligibility, Exam pattern, Syllabus, preparation tips, Salary

UP TGT और UP PGT के बारे में आपने सुना होगा और यदि आप स्नातक हैं और B.ed. / B.P. ed. किया हुआ है या फिर आप परा स्नातक हैं तो उत्तर प्रदेश में सरकारी अध्यापक बनने का सुनहरा अवसर आपके पास है |

UP TGT परीक्षा के लिए योग्यता (UP TGT Eligibility Criteria):

  • ऐसे अभ्यर्थी जिन्होंने किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से किसी भी विषय में स्नातक (Graduation in any stream) के बाद B.ed. / B.P. ed. किया है, वे TGT के लिए पात्र होंगे |

UP TGT Age limitation:

  • आयु 1 जुलाई 2016 को 21 वर्ष से कम न हो |

UP TGT Exam Pattern (परीक्षा पैटर्न ):

UPTGT की परीक्षा दो चरणों में संपन्न होती है :

  1. लिखित परीक्षा
  2. साक्षात्कार

TGT लिखित परीक्षा का विवरण:

प्रत्येक विषय के अभ्यर्थियों के लिए अलग अलग परीक्षा का आयोजन किया जाता है| इस परीक्षा में कुल 125 बहुविकल्पीय प्रश्न होते हैं | प्रत्येक प्रश्न के 4 विकल्प होते हैं  तथा अधिकतम अंक 425 होते हैं | जिसमें नकारात्मक मूल्यांकन (negative marking) नहीं होता है| इस प्रश्नपत्र के लिए अधिकतम समय 2 घंटा होता है |

Graduation + B .ed Graduation Subject Can apply for TGT subject
B. Sc. (Bachelor of Science) Maths Maths
Physics  

Science

 

Chemistry
Botany
Zoology
B.A. ( Bachelor of Arts) Hindi Hindi
History SST ( Social Study)
Geography
Political Science
Economics
Sociology
Home Science Home Science
English English
Urdu Urdu
Sanskrit Sanskrit
Education Education
Drawing Drawing
B. Sc. ( Agriculture) Agriculture Agriculture
B. Com. Commerce Commerce

Note: उपरोक्त दिए गए विषयों में किसी अभ्यर्थी ने यदि दो विषयों में स्नातक किया है और तो वह उन दोनों विषय में अलग अलग आवेदन कर सकता है |

UP PGT परीक्षा के लिए योग्यता:

ऐसे अभ्यर्थी जिन्होंने किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से परास्नातक (Post Graduation) किया है वे PGT के लिए पात्र होंगे |

UP PGT Age limitation:

  • आयु 1 जुलाई 2016 को 21 वर्ष से कम न हो |

UP PGT Exam Pattern (परीक्षा पैटर्न ):

UPPGT की परीक्षा दो चरणों में संपन्न होती है :

  1. लिखित परीक्षा
  2. साक्षात्कार

UP PGT लिखित परीक्षा का विवरण:

प्रत्येक विषय के अभ्यर्थियों के लिए अलग अलग परीक्षा का आयोजन किया जाता है| इस परीक्षा में कुल 125 बहुविकल्पीय प्रश्न होते हैं | प्रत्येक प्रश्न के 4 विकल्प होते हैं  तथा अधिकतम अंक 425 होते हैं | जिसमें नकारात्मक मूल्यांकन (negative marking) नहीं होता है| इस प्रश्नपत्र के लिए अधिकतम समय 2 घंटा होता है |

Note: अभ्यर्थी ने जिस विषय से परा स्नातक (Post Graduation)  किया है वे उसी विषय से PGT हेतु आवेदन कर सकते हैं|

UP TGT / UP PGT Interview (साक्षात्कार):

लिखित परीक्षा में चयन होने के बाद अभ्यर्थी को साक्षात्कार के लिए बुलाया जाता है, जिसका आयोजन उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा चयन बोर्ड, इलाहाबाद में होता है |

हांलाकि लिखित परीक्षा की अपेक्षा साक्षात्कार के अंक अत्यंत कम होते हैं परन्तु फिर भी अंतिम चयन में साक्षात्कार का महत्वपूर्ण योगदान होता है क्युकि यदि लिखित परीक्षा में आपके अच्छे अंक ना हों और साक्षात्कार भी अच्छा हो तो आपको अंतिम चयन से बहार निकाला जा सकता है|

UPPCS Pre Mock Test

साक्षत्कार के लिए अभ्यर्थी के पास अपने विषय से सम्बंधित जानकारी के अलावा कुछ व्यवहारिक ज्ञान जिसकी एक अध्यापक से अपेक्षा की जा सकती है, होना आवश्यक है क्युकि यदि बोर्ड के सदस्य विषय से सम्बन्धित प्रश्न पूछते हैं तब अभ्यर्थी जानकारी होने पर आसानी से जवाब दे सकते हैं, किन्तु यदि व्यवहारिक ज्ञान से प्रश्न पूछा जाता है तो उस प्रश्न के जवाब के कई मोड़ हो सकते हैं | इसलिए अपनी भाषा, अपने आपको पहचानना, अपने सकारात्मक पहलु आदि के बारे में जितना अधिक हो सके जानकारी रखें |

UP TGT / UP PGT Merit ( Final Merit ):

UP TGT / UP PGT में अंतिम चयन लिखित परीक्षा तथा साक्षात्कार के अंकों के योग के आधार पर होता है, अर्थात यदि कोई अभ्यर्थी साक्षात्कार में कम अंक पाता है और उसके लिखित परीक्षा में अन्य अभ्यर्थियों से अच्छे अंक हैं तो उसे इस आधार पर चयन से वंचित नहीं किया जा सकता कि उसके साक्षात्कार में कम अंक हैं | चूँकि अंतिम चयन में लिखित परीक्षा का योगदान साक्षात्कार से कहीं अधिक होता है |

UPTGT Syllabus
UP PGT Syllabus

How to prepare for UPTGT / UPPGT:

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा चयन बोर्ड द्वारा TGT तथा PGT के लिए आवेदन 6 जून 2016 से प्रारंभ हो रहे हैं| तथा इसकी परीक्षा की संभावित तिथि अक्टूबर / नवम्बर उपरोक्त बोर्ड द्वारा बताई गयी है | इन तिथियों को ध्यान में रखते हुए आपके पास तैयारी करने के लिए मात्र 4 से 5 माह का समय है | यह मूल्यवान समय आपके कैरियर में एक नया मोड़ ला सकता है वशर्ते आप इस समय का उपयोग अच्छी तरह से कर पाते हैं |

अधिकतर अभ्यर्थी ऐसे होते हैं जो स्नातक या परा स्नातक की परीक्षाओं में गहन अध्यन नहीं करते हैं वल्कि कुछ प्रकाशन द्वारा जरी किये गए गैस पेपर / डाइजेस्ट / मॉडल पेपर आदि पढ़कर परीक्षा देते हैं और परीक्षा पास भी कर लेते हैं | परन्तु उन्हें उस सम्बन्धित विषय का ज्ञान नहीं हो पता और वह उस विषय की किसी भी प्रतिस्पर्धात्मक परीक्षा में पिछड़ जाते हैं | TGT / PGT एक ऐसी परीक्षा है जिसमें अभ्यर्थी को विषय का गहन अध्यन होना आवश्यक है क्युकि इस परीक्षा में उसी विषय से सम्बन्धित प्रश्न पूछे जाते हैं जिसमें अभ्यर्थी ने स्नातक या परा स्नातक किया हुआ है |

 

अभ्यर्थियों के पास जो चार से पांच माह का समय है उसमें किसी भी विषय का गहन अध्यन किया जा सकता है तथा परीक्षा को आसानी से उत्तीर्ण किया जा सकता है | लेकिन ऐसे समय में ध्यान देने वाली बातें कुछ ऐसी होती हैं कि इस परीक्षा के लिए क्या पढ़ा जाये और क्या छोड़ा जाये | क्युकि कोई भी प्रतिस्पर्धात्मक परीक्षा पास करने के लिए hard work नहीं वल्कि smart work की आवश्यकता होती है |

UPTGT / UPPGT Preparation Tips:

  • सर्वप्रथम उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा चयन बोर्ड द्वारा जारी पाठ्यक्रम ( syllabus) को भलीभांति पढ़ें और उसमें दिए गए topics के अनुसार पाठ्य सामग्री आपके पास होनी अनिवार्य है |
  • पाठ्यक्रम ( syllabus) को तीन वर्गों में विभाजित करें |
    1.  वह topic जो आपको भलीभांति आते हैं |
    2.  वह topic जो आपको आते हैं परन्तु उनमें पूर्ण जानकारी नहीं है|
    3.  वह topic जो आपको बिलकुल नहीं आते|
  • कम से कम दो बार सम्पूर्ण पाठ्य सामग्री का अध्यन करें|
  • पिछले वर्ष के प्रश्नपत्र को देखते हुए ये जांचे कि किस topic से कितने / अधिक प्रश्न पूछे जाते हैं |
  • उपरोक्त बिंदुओं को ध्यान में रखते हुए अपने नोट्स तैयार करें | नोट्स को पूरे syllabus के अनुसार ही तैयार करें और उसे ही बार बार पढ़ें | क्युकि बार बार पढ़ी गयी पढ़ा गया नोट्स ही आपको परीक्षा में सफलता दिलवाएगा |
  • यदि आप अलग अलग प्रकाशन की कई किताबें या अलग अलग कोचिंग के नोट्स पढ़ते हैं तो यह आपके लिए अत्यंत नुकसान देय हो सकते हैं |
    • खासकर मानविकी वर्ग जैसे इतिहास, राजनीतिक विज्ञान, समाज शास्त्र आदि विषयों को बार बार पढ़कर ही परीक्षा में सफलता हांसिल की जा सकती है |
    • विज्ञान वर्ग के विषय जैसे गणित, भौतिक विज्ञान आदि में अभ्यास के द्वारा ही परीक्षा में सफलता हांसिल की जा सकती है |
    •  वणिज्य वर्ग के विषयों में जैसे बही खाता एवं लेखाशास्त्र में अभ्यास अनिवार्य है, जबकि इसके दूसरे विषयों जैसे व्यापार ( business) आदि में बार बार पढना अधिक आवश्यक है |

 

UP TGT / UPPGT परीक्षा के लिए समय प्रबंधन ( Time Management):

सम्भावित परीक्षा की तिथि अक्टूबर / नवम्बर को ध्यान में रखते हुए आपके पास जितना भी समय है आपको उसी का सदुपयोग करते हुए परीक्षा की तैयारी करनी है | अलग अलग प्रकार के अभ्यर्थी जैसे कुछ अपनी पढाई को पूरा समय देते हैं, कुछ कार्यरत होने के कारण कम समय दे पाते हैं, महिला अभ्यर्थी घर के कार्यों में व्यस्त होने के कारण कम समय दे पाती हैं, अपनी दिनचर्या में से खाली समय को निकाल कर नीचे दिए गए तरीकों से पढने में उपयोग करें:

  1. ऐसे अभ्यर्थी जो कार्यरत (working) हैं वे अपने syllabus से डायरी नोट्स तैयार करें और जब भी समय मिले तो उसको इधर उधर की बातों में बर्वाद करने की जगह अपने डायरी नोट्स को पढ़ें |
  2. घर पर यदि 2-3 घंटे भी दे पाते हैं तो पर्याप्त है लेकिन उन 2-3 घंटों का प्रत्येक दिन उपयोग करें|
  3.  महिला अभ्यर्थियों के पास दोपहर और रात्रि काल का समय होता है | उसमें वह अपने नोट्स बनायें और यदि घर के कामों के कारण दिन में एक साथ 2-3 घंटें का समय नहीं दे पाती हैं तो दो कामों के बीच के समय का उपयोग अपने बनाये हुए नोट्स को दोहराने में करें | परीक्षा होने तक खुद को social networking और Telivision से दूर रखें|
  4. जो अभ्यर्थी पूरा समय इस परीक्षा की तैयारी में दे सकते हैं वे whatsapp, facebook, twitter, hike जैसे social messengers से बचें और अपने समय को पूरा पढाई में दें|

UP TGT / UP PGT Joining / Posting:

Final merit लिस्ट बनने के बाद अभ्यर्थी का अंतिम चयन हो जाता है | यदि वह TGT के लिए चयनित होता है तो उसे उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सहायता प्राप्त ( Aided) माध्यमिक विद्यालयों में कक्षा 9 एवं 10 के विद्यार्थियों को सम्बंधित विषय पढ़ाने हेतु अध्यापक के पद पर नियुक्त किया जाता है |

  •